Monkeypox को WHO ने किया Global Emergency घोषित| क्या है Monkeypox| Symptoms| भारत में इसके केस|

लोग पहले से ही कोरोना से परेशान हैं और पूरी तरह इससे छुटकारा भी नही पा पाऐ। और अब Monkeypox virus भी आ गया। बताया जा रहा है कि इससे लोगों की जान को खतरा है, तथा मर्त्यु दर 10 प्रतिशत बताई गई है। इसके चलते WHO के द्वारा Monkeypox को Global Emergency घोषित कर दिया गया है।

क्या है Monkeypox?

Monkeypox कोरोना के जैसा वायरस है जो human to human होता है। इसके कुछ लक्षण smallpox से भी मिलते हैं। इसके 72 दूशों से 14500 के आए हैं। मई महीने मे इसके 47 देशों से 3000 के करीब केस आएं हैं।अगर इसकी कोरोना से तुलना करें तो 2020 में कोरोना के 7500 हजार के आस-पास केस आए थे। इस कारण इसे भी हलके में नही लिया जा सकता।
शनिवार को WHO की सात घण्टे की मीटिंग बैठाई गई और अन्ततः Monkeypox को WHO के द्वारा PHEIC (public health emergency of international concern) घोषित किया गया।
इसकी शुरुआत Democratic Republic Congo से हुई थी।

Symptoms

इसके कुछ लक्षण smallpox से मिलते हैं। इसमें body पर छोटे- छोटे दाने हो जाएगें। बुखार भी आएगा तथा हमारे शरीर में बहुत दर्द होगा। शरीर थका- थका महसूस करेगा। सरदर्द होगा। मांसपेसियों में दर्द तथा ग्रन्थियों में सूजन।

भारत में इसके केस

आठ दिनों से भारत में Monkeypox के तीन ही केस मिले हैं। इसका पहला केस केरल राज्य में पाया गया। जिसकी पुष्टि केरल की स्वास्थ्य मंत्री Veena George ने की है। उनका कहना है, कि हय व्यक्ति जो Monkeypox से संक्रमित पाया गया United Arab Emirates की यात्रा करके लौटा है। तथा दूसरे मामले की बात जिस वक्ति में की जा रही है वह भी UAE की यात्रा करके केरल के कुन्नूर वापस लौटा है। तथा जिस तीसरे व्यक्ति में Monkeypox के लक्षण पाऐ गऐ हैं उसका मंजेरी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। और अब वह व्यक्ति स्टेवल है।
राजधानी दिल्ली में भी Monkeypox के कुछ केस पाऐ जाने की जानकारी मिली है
chickenpox की तरह इसका अभी तक तो कोई इलाज नहीं है, पर smallpox खी vaccine इसके इलाज में 85 percent effective है।
यह जादा प्रभावी वायरस नहीं है, फिर भी सभी देशों को aware रहने की जरूरत है, तथा भारत को भी aware रहना चाहिए और अपने आस-पास के लोगों को aware करना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.