draupadi murmu

द्रोपदी मुर्मू होंगी देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति और कुल 15वीं राष्ट्रपति के रूप में लेंगी शपथ.

राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आ चुके हैं और एनडीए उम्मीदवार श्रीमती द्रोपदी मुर्मू (draupadi murmu) जी राष्ट्रपति के रूप में होंगी देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति. इनसे पहले श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल जी प्रथम महिला राष्ट्रपति रह चुकीं हैं. द्रोपदी मुर्मू जी को देश के नये राष्ट्रपति के रूप में चुन लिया गया है वह देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति बनी व प्रथम आदिवासी महिला राष्ट्रपति. इनसे पहले श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल प्रथम राष्ट्रपति तथा कुल 12वें राष्ट्रपति के रूप में भारत देश का कर चुकीं हैं प्रतिनिधित्व.

द्रोपदी मुर्मू : श्रीमती द्रोपदी मुर्मू जी का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदोपासी नामक गाँव में हुआ था. इनके पति का नाम श्याम चरण मुरु तथा संतान है जिसका नाम इतिश्री मुर्मू है, यह एक भारतीय राजनेत्री हैं जो साल 2015 से 2021 तक झारखंड राज्य की 9वीं राज्यपाल भी रह चुकीं हैं. यह भारतीय जनता पार्टी अर्थात बीजेपी से ताल्लुक रखती हैं.

फोटो : द्रोपदी मुर्मू

इन्होंने राष्ट्रपति चुनाव में श्री यशवंत सिंहा जी को पीछे छोड़ते हुए जीत दर्ज की और पहली बार राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण लेंगी. यह भारत देश की दूसरी महिला राष्ट्रपति व प्रथम आदिवासी महिला राष्ट्रपति तथा कुल 15वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण लेंगी. श्रीमती द्रोपदी मुर्मू जी को 3,78,000 वैल्यू वोट (480 वोट) मिले तथा श्री यशवंत सिंहा जी को 1,45,600 वैल्यू वोट ( 208 वोट) मिले तथा कुल 15 वोट अमान्य चले गए.

श्रीमती द्रोपदी मुर्मू जी ने अपनी शिक्षा रमादेवी महिला विश्विद्यालय ओडिशा से पूर्ण की थीं.

रमादेवी महिला महाविद्यालय

रमा देवी महिला विश्वविद्यालय भारत के ओड़ीशा राज्य के भुवनेश्वर मेँ स्थित एक महिला विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना सन् 1964 में एक छोटे से भवन में हुई थी और तब इसका नाम रमा देवी महिला महाविद्यालय था। इसका नाम रमादेवी चौधुरी के नाम पर रखा गया है। यह ओड़ीसा का पहला महिला विश्वविद्यालय है।

25 जुलाई 2022 को होगा राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह.

एनडीए अर्थात भाजपा प्रत्याशी द्रोपदी मुर्मू जी राष्ट्रपति का चुनाव जीत चुकीं हैं और 25 जुलाई 2022 को लेंगी शपथ ग्रहण.

प्रथम महिला राष्ट्रपति : श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल 2007-12 के समयावधि के अन्तर्गत प्रथम महिला राष्ट्रपति व कुल 12वें राष्ट्रपति के रूप में देश का प्रतिनिधित्व कर चुकीं हैं. यह एक भारतीय राजनेत्री हैं. इनका जन्म 19 दिसंबर 1934 को नदगांव में हुआ था, यह भारतीय कांग्रेस पार्टी से ताल्लुक रखती हैं. वर्तमान मे यह 87 वर्ष की है. 1 जून 2019 को भारत की पूर्व राष्ट्रपति श्रीमती पाटिल को विदेशियों को दिये जाने वाले मेक्सिको के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘ऑर्डेन मेक्सिकाना डेल एग्वेला एज्टेका’ से सम्मानित किया गया.

1947-2022 तक भारत के सभी राष्ट्रपतियों की सूची व कार्यकाल.

भारत की स्वतंत्रता से लेकर अब कुल 14 राष्ट्रपति हो चुकें, इन 14 राष्ट्रपतियों के अलावा तीन कार्यवाहक राष्ट्रपति भी हुए हैं जो पदस्थ राष्ट्रपति की मृत्यु के पश्चात बनाए गए. वी. वी गिरी, मोहम्मद हिदायतुल्लाह तथा तथा बाप्पा जनप्पा जत्ती ये तीनों कार्यवाहक राष्ट्रपति भी रहे हैं. डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद देश के प्रथम राष्ट्रपति रहे और श्री राम नाथ कोविंद 14वें राष्ट्रपति. और अब श्रीमती द्रोपदी मुर्मू देश की 15 वीं राष्ट्रपति के रूप में 25 जुलाई 2022 को लेंगी अपना शपथ.

1 डॉ राजेन्द्र प्रसाद 26 January 1950 – 13 May 1962


2 डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन 13 May 1962 – 13 May 1967


3 डॉ जाकिर हुसैन 13 May 1967 – 3 May 1969


– वी. वी गिरी (Acting President) 3 May 1969 – 20 July 1969


– मोहम्मद हिदायतुल्लाह (Acting President) 20 July 1969 to 24 August 1969


4 वी. वी गिरी 24 August 1969 – 24 August 1974


5 फखरुद्दीन अली अहमद 24 August 1974 – 11 February 1977


– बासप्पा दनप्पा जत्ती (Acting President) 11 February 1977 – 25 July 1977


6 नीलम संजीव रेड्डी 25 July 1977 – 25 July 1982


7 ज्ञानी जैल सिंह 25 July 1982 – 25 July 1987


8 रामास्वामी वेंकटरमण 25 July 1987 – 25 July 1992


9 शंकरदयाल शर्मा 25 July 1992 – 25 July 1997


10 के. आर. नारायणन 25 July 1997 – 25 July 2002


11 ऐ. पी. जे. अब्दुल क 25 July 2002 – 25 July 2007


12 प्रतिभा पाटिल 25 July 2007 – 25 July 2012


13 प्रणब मुखर्जी 25 July – 25 July 2017


14 राम नाथ कोविन्द 25 July 2017 – पदस्थ

और अब पंद्रहवी श्रीमती द्रोपदी मुर्मू जी होंगी.

राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें.

राष्ट्रपति का चुनाव संसद और राज्य के विधानमंडल के चुने हुए प्रतिनिधियों द्वारा किया जाता हैं. निर्वाचक मंडल भारत के राष्ट्रपति का चुनाव करता है और इनके सदस्यों का प्रतिनिधित्व अनुपातिक होता है. उनका वोट सिंगल ट्रांसफीरेबल होता है और उनकी दूसरी पसंद की भी गिनती होती है. राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है और राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बिना भारत में कोई भी कानून लागू नहीं हो सकता है. डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद देश के प्रथम राष्ट्रपति थे, यह भारत के एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति थे, जिन्होंने दो कार्यकालों तक राष्ट्रपति पद पर कार्य किया. वे संविधान सभा के अध्यक्ष भी थे और भारतीय स्वाधीनता आन्दोलन के प्रमुख नेता. उनको 1962 में भारत रत्न दिया गया था.

• राष्ट्रपति देश का प्रथम नागरिक होता है.

• राष्ट्रपति भारत में राज्य का प्रमुख होता है.

• राष्ट्रपति भारत देश का सर्वोच्च संवैधानिक पद है.

• राष्ट्रपति चुनाव हेतु न्यूनतम 35 वर्ष की आयु आवश्यक है.

• आपके पास लोकसभा सदस्य निर्वाचन की सदस्यता हो .

• अनुच्छेद-52 राष्ट्रपति का चुनाव कराने की अनुमति देता है.

• अनुच्छेद-55 निर्वाचन की नीति को अनुमति देता है.

• अनुच्छेद-56 राष्ट्रपति की पदावधि देने की अनुमति प्रदान करता है.

• निर्वाचक मंडल भारत के राष्ट्रपति का चुनाव कराता है.

• अनुच्छेद-53 के अनुसार, संघ की सभी कार्यकारी शक्तियाँ उसके द्वारा या तो सीधे या अपने अधीनस्थ अधिकारियों के माध्यम से निष्पादित की जाएंगी.

Leave a Comment

Your email address will not be published.