स्वरचित शायरी || मा पर शायरी , रात पर शायरी ||


मां : ( Ma par shayari )

Ma par shayari


 मां वो तेरी किस्से कहानियां और वो लोरिया
वो मेरी छोटी छोटी जरुरत के लिए पापा के जेब से चोरिया
अब बहुत याद आती हैं मां
कैसे मेरी छोटी छोटी जरुरत समझ जाती थी
मुझे स्कूल भेजने के लिए खुद अपनी नींद खराब करके जग जाती थी
कैसे भूलूं मेरा वो हाथ का जलना
तेरे पैर में बिना चप्पल के भागते हुए डॉक्टर के पास चलना
क्या क्या बताऊं मां तेरा बेटा बड़ा हो गया हैं
अभी पूरी तरह से ना सही अपने पैर पे खड़ा हो गया हैं
तू यू चली गई मुझे यकीन नही हुआ
अब लौट आ मां बस बहुत हुआ
तेरी याद बहुत सताती है
हर रात मुझे रुलाती है
तू चली गई मुझे यकीन नहीं हुआ
अब लौट आ मां बस बहुत हुआ ।।



चाय की प्याली:

chay par shayari


मेरी सुबह अधूरी हैं जब तक,
चाय की खुशबू सूंघ ना लू,
और ये खुशबू निकलती नहीं दिमाग से तब तक,
जब तक मैं चाय की प्याली को चूम ना लू





प्रश्न:-


जिस माथे को चूमा तुमने,
क्या उस माथे को अरुण रंग दे पाओगे?
किए थे जो भी वादे मिलने से पहले,
क्या उन सभी वादों को ता-उम्र निभा पाओगे?
ये दुनिया कहती है इश्क़ में बड़ा फरेब है,
क्या तुम इस बात को गलत साबित कर पाओगे?


मुझसे मिलने आओगी क्या?  ( Sad shayari )



जब मैं तन्हा हो जाऊंगा
गुमनामी में खो जाऊंगा
दुनिया के बंधन टूटेंगे
जब मेरे मुझसे रूठेंगे
तब मेरे दीवान से चुनकर
कोई नज्म सुनाओगी क्या
मुझसे मिलने आओगी क्या?
*******************

sad shayari 

हैं होठों पर गीतवाभी तो 
जीवन के संगीत अभी तो
मैं गीतों का राजकुंवर भी है
बहुतेरे मीत अभी तो
लेकिन जब मिट जायेगा सब
अपना हाथ बढ़ाओगी क्या
मुझसे मिलने आओगी क्या?
*******************
जब मैं तन्हा हो जाऊंगा
गुमनामी में खो जाऊंगा
दुनिया के बंधन टूटेंगे
जब मेरे मुझसे रूठेंगे
तब मेरे दीवान से चुनकर
कोई नज्म सुनाओगी क्या
मुझसे मिलने आओगी क्या?
*******************
हैं होठों पर गीतवाभी तो 
जीवन के संगीत अभी तो
मैं गीतों का राजकुंवर भी है
बहुतेरे मीत अभी तो
लेकिन जब मिट जायेगा सब
अपना हाथ बढ़ाओगी क्या
मुझसे मिलने आओगी क्या?


विरह श्रृंगार : ( hindi-kavita-virah-vedna)


भ्रम:-


पल भर के ये मोहब्बत की मीठी बातें तुम्हें भरम देती है,
ये चंद घंटों की मुलाकातें तुम्हें ज़िंदगी भर का ज़ख्म देती हैं,
 तू खुद को क्या अपने मां बाप के अरमानों को भी अपने पावों तले कुचल देता है,
जब वो बेवफ़ा तुझे अपना झूठा प्यार और कसम देती है।।


 रात्रि का तीसरे पहर: ( Ratri par shayari)


 रात्रि तीसरे पहर का समय हो रहा है और मैं अनायास ही जागा हुआ हूं, वैसे तो यह मध्यरात्रि का समय घोर निद्रा का है परंतु आंखों में किसी भी प्रकार की नींद वाली कोई हलचल नहीं है, मेरा कमरा अंधेरों से भरा है, मुझे अंधेरे से मोहब्बत है क्यूंकि मैं इसके साये में कभी-कभी रो भी लेता हूं



झूठे ख्वाब: ( Sapne par shayari )


 फरेबी थे तुम,तुमने मुझे फरेब सिखाया।
दिलों से खेलने का तुमने, मुझे क्या ढंग सिखाया।
मैं तो अंजान था ऐसे रास्तें ऐसी मंजिलो से,
तुमने ही मुझे झूठे सपने दिखा कर उनपे चलना सिखाया।
अब मैं हो गया हूं बिल्कुल तेरे जैसा, तुमने मुझे बेवफ़ा बताया
पत्थर दिल बताया।

                          – शुभम सिंह 

Leave a Comment

Your email address will not be published.