KARNATAKA HIJAB CONTROVERSY: चुनाव से पहले, फैला “हिजाब” और “भगवा” में संग्राम……….. आखिर क्या है विवाद जानिए हमारे साथ……

KARNATAKA HIJAB CONTROVERSY: चुनाव से पहले, फैला “हिजाब” और “भगवा” में संग्राम……….. आखिर क्या है विवाद जानिए हमारे साथ……
उत्तर प्रदेश(UTTAR PRADESH FIRST PHASE ELECTION) में 10 फरवरी को पहले चरण में चुनाव होना है। 
इसी बीच कर्नाटक(KARNATAKA) में शुरू हुए हिजाब विवाद के बाद ,  इसका असर अब दिल्ली(DELHI) समेत महाराष्ट्र(MAHARASHTRA) में दिख रहा है। इस बीच कर्नाटक में हिजाब को लेकर जारी विवाद पर उत्तर प्रदेश के छात्र-छात्राओं ने इस पर अपनी राय जाहिर करते हुए हिजाब पहनने को चॉइस का मामला बताया है। उन्होंने राजनीतिक दलों पर धर्म की राजनीति का आरोप भी लगाया और कहा कि उन्होंने कॉलेज तक को नहीं छोड़ा और वहां भी धर्म की राजनीति फैला दी।
देश के 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कर्नाटक में शुरू हुए हिजाब विवाद का असर अब अन्य राज्यों में भी दिख रहा है जहां कर्नाटक के उडुपी में सरकारी कॉलेज में जानें पर प्रतिबंध के खिलाफ दिल्ली में छात्र प्रदर्शन करते दिख रहे हैं, वहीं इस हिजाब पक्ष के लोगों ने महाराष्ट्र में हस्ताक्षर अभियान चलाया।
कर्नाटक के एक मंत्री ने इस विवाद के पीछे कांग्रेस का हाथ बताया और बोले कि स्टूडेंट्स जो चाहे पहने लेकिन स्कूलों में ड्रेस कोड अनिवार्य होना चाहिए।
यह मुद्दा अब राज्य के विभिन्न हिस्सों में भी फैल गया है….
दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा समर्थित युवा हिंदू भगवा गमछा डाल कर उस मामले में कूद पड़े हैं और इसके बाद कभी पुलिस के साथ छात्रों की झड़प की खबर सामने आई तो कभी अभिभावक पत्थर फेंके जाने की खबर ने राज्य सरकार को परेशानी में डाल दिया है।
बढ़ते हुए विवाद को देखते हुए राज्य में 3 दिन तक स्कूल कॉलेजों को बंद करने का निर्देश दिया गया है…..
सबसे गौर करने वाली बात यह है कि भगवा गमछा डालने वाले छात्रों को भी कक्षा में नहीं बैठने दिया जा रहा है..
इस मुद्दे ने राजनीतिक रंग भी ले लिया है, राज्य में सत्तासीन बीजेपी कॉलेज द्वारा लगाए गए वर्दी संबंधी नियमों का समर्थन कर रही है.
वहीं विपक्षी दल कांग्रेस का आरोप है कि हिजाब विवाद युवाओं के दिमाग में जहर घोलने की साजिश है।
आपको बता दें कि महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई के पास स्थित “भिवंडी” में हिजाब के पक्ष में हस्ताक्षर अभियान का आयोजन हुआ, जिस दौरान महिलाओं के हाथों में पट्टी दिखी जो कहती हैं कि हिजाब हमारी ताकत है और अल्लाह के प्रति हमारी आज्ञाकारीता है..
दूसरी ओर दिल्ली विश्वविद्यालय में एक छात्र संगठन ने कर्नाटक के सरकारी कॉलेज में हिजाब प्रबंधन के खिलाफ बीते दिन जमकर प्रदर्शन किया।
“मुस्लिम स्टूडेंट्स फेडरेशन” ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के नॉर्थ कैंपस में प्रदर्शन किया, जानकारी के मुताबिक इस प्रदर्शन में 50 छात्र शामिल थे ,जिसमें महिलाओं की संख्या अधिक थी।
यह पूरी घटना वाकई में “शिक्षा “को शर्मसार करने वाली है क्योंकि शिक्षा में भी तुष्टीकरण करने की साजिश हो रही है और बच्चों के दिमाग में मजहबी रंग डालकर उनके भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है….

Leave a Comment

Your email address will not be published.