Up election यूपी, मणिपुर, गोवा, पंजाब व उत्तराखण्ड सहित इन पांच राज्यों में बजा चुनावी बिगुल,आपके जिले में कब है चुनाव जाने …

 Big breaking news :- यूपी, मणिपुर, गोवा, पंजाब व उत्तराखण्ड सहित इन पांच राज्यों में बजा चुनावी बिगुल! 

पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में एक चरण में मतदान, मणिपुर में दो चरण तथा यूपी में सात चरणों में होंगे मतदान, मतगणना 10 मार्च को होगी! 

विधानसभा चुनाव तिथि 2022: निर्वाचन आयोग ने 08 जनवरी दिन शनिवार को 5 राज्यों में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया है! मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा ने बताया कि पंजाब, उत्तराखंड तथा गोवा में एक चरण में जबकि मणिपुर में दो और  उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होंगे!

नई दिल्ली:  कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते प्रसार के बीच ही चुनाव आयोग ने समय से चुनाव कराने की दिशा में तिथियों की घोषणा तो कर दी हैं, लेकिन पूरी सतर्कता और हिदायत के साथ, घोषणा के साथ ही चुनावी राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में हर दल की सभाओं व रैलियों पर रोक लग गई है। 15 जनवरी को आयोग फिर से तय करेगा कि चुनाव प्रचार का तौर तरीका क्या होगा। मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने घोषणा करते हुए कहा कि पहले चरण के मतदान की शुरुआत 10 फरवरी से होगी और सात मार्च को आखिरी यानी सातवें चरण में वोट पड़ेगे। सभी राज्यों के परिणाम 10 मार्च को आएंगे।

पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 14 फरवरी को मतदान

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा ने बताया कि उत्तर प्रदेश में सात, मणिपुर में दो और पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में एक चरण में मतदान होगा। पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 14 फरवरी को एक चरण में मतदान होगा जबकि मणिपुर में 27 फरवरी और तीन मार्च को दो चरणों में वोट डाले जाएंगे। 10 मार्च को पांचों राज्‍यों में मतगणना होगी।

10 फरवरी को यूपी से शुरुआत

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी को पहले चरण के मतदान के साथ ही विधानसभा चुनावों की शुरुआत होगी। दूसरे चरण में 14 फरवरी को उत्तर प्रदेश के दूसरे चरण की वोटिंग होगी। इसी दिन पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में एक चरण में मतदान पूरे होंगे। उत्तर प्रदेश में 20 फरवरी को तीसरे और 23 फरवरी को चौथे चरण के मतदान होंगे। 27 फरवरी को उत्तर प्रदेश में पांचवें चरण के तहत वोट डाले जाएंगे। इसी दिन मणिपुर के पहले चरण का मतदान होगा। तीन मार्च को उत्तर प्रदेश में छठे चरण और मणिपुर के दूसरे चरण के मतदान पूरे होंगे। उत्तर प्रदेश के 7वें और अंतिम चरण के मतदान सात मार्च को होगा।

चुनाव को टाला नहीं जा सकता:

कुछ दिन पहले ही मुख्य चुनाव आयुक्त ने संकेत दिए थे कि चुनाव समय से होंगे और सभी दल यही चाहते हैं। शनिवार को घोषणा करते हुए उन्होंने कोरोना संकट के बीच चुनाव कराने को चुनौतीपूर्ण तो माना, लेकिन कहा कि संविधान के तहत इन राज्यों के चुनाव को टाला नहीं जा सकता है। ऐसे में कड़ी कोरोना गाइडलाइन और सतर्कता के बीच इन चुनावों को कराने का फैसला लिया गया है।

आगे स्थितियों को देखते हुए होंगे फैसले

इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी कोरोना प्रोटोकाल का भी कड़ाई से सभी मतदान केंद्रों पर पालन किया जाएगा। लोगों को भीड़भाड़ से बचाने के लिए सभी राज्यों में मतदान केंद्रों की संख्या भी बढ़ाई गई है। साथ ही कोरोना के संक्रमण पर विशेषज्ञों के साथ संपर्क में है। चंद्रा ने कहा कि आगे की स्थितियों को देखते हुए जो भी कड़े निर्णय लेने होंगे वे लिए जाएंगे। गौरतलब है कि वर्ष 2017 में इन पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की घोषणा उस साल चार जनवरी को की गई थी।

वर्चुअल और डिजिटल माध्यम से चुनाव प्रचार

चुनाव आयोग ने राजनीतिक दलों से 15 जनवरी तक वर्चुअल और डिजिटल माध्यम से चुनाव प्रचार करने को कहा है। 15 जनवरी के बाद कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा की जाएगी और तात्कालिक स्थितियों को देखते हुए निर्णय लिया जाएगा। घर-घर प्रचार के दौरान प्रत्याशी सहित सिर्फ पांच व्यक्तियों को ही शामिल होने की इजाजत होगी। सुरक्षाकर्मी इससे अलग होंगे।

सोशल मीडिया पोस्टों पर भी रहेगी नजर:

मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त सुशील चंद्रा ने कहा कि यूपी में 10 जनवरी को नोटिफिकेशन जारी होगा जबकि 21 जनवरी नामांकन की लास्‍ट डेट रखी गई है। निर्वाचन आयुक्‍त ने यह भी कहा कि इस बार सोशल मीडिया पोस्टों पर भी कड़ी नजर रहेगी। नफरत वाले भाषणों यानी हेट स्पीच को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

15 जनवरी तक रोड शो, रैली, जुलूस की इजाजत नहीं:

कोरोना की चुनौतियों पर मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा- यकीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट लेकर भी चिराग जलता है। राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को हमारी सलाह है कि वे अपने चुनाव प्रचार कार्यक्रमों को डिजिटल मोड में ही चलाएं। 15 जनवरी तक कोई भी रोड शो, बाइक रैली, जुलूस या पद यात्रा की इजाजत नहीं होगी। यही नहीं 15 जनवरी तक कोई फीजिकल रैली भी नहीं आयोजित की जाएगी। बाद में डीटेल गाइडलाइंस जारी की जाएंगी।

विजय जुलूस की भी इजाजत नहीं:

चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना गाइडलाइंस का पूरी तरह अनुपालन सुनिश्चित करना होगा। इसमें शामिल होने वाले लोगों के लिए कोरोना से बचाव के लिए मास्क और सैनिटाइजर की व्यवस्था राजनीतिक दल ही करेंगे। मतगणना के बाद किसी भी तरह के विजय जुलूस की इजाजत नहीं होगी! 

अधिकतम मतदाताओं की संख्या 1500 से 1250 निर्धारित:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि इस बार आयोग पर्याप्त संख्या में वीवीपैट की व्यवस्था करेगा। उम्मीदवारों को आनलाइन नामांकन का भी विकल्प मिलेगा। पोलिंग स्टेशन पर अधिकतम मतदाताओं की संख्या 1500 से 1250 निर्धारित की गई है। दिव्यांगों और 80 साल से ज्‍यादा उम्र वाले वरिष्ठ नागरिकों के साथ कोविड संक्रमितों को घर से मतदात करने की सुविधा मिलेगी।

राजनीतिक दलों के लिए दिशा-निर्देश:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि राजनीतिक दलों के सभी चुनावी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी कराई जाएगी। पार्टियों को अपने उम्मीदवारों की आपराधिक रिकार्ड की घोषणा अनिवार्य रूप से करनी होगी। यूपी, पंजाब और उत्तराखंड में हर उम्‍मीदवार 40 लाख रुपए ही खर्च कर पाएगा। वहीं मणिपुर और गोवा में उम्‍मीदवार के लिए चुनावी खर्च सीमा 28 लाख रुपए तक ही सीमित रहेगी।

16 फीसद पोलिंग बूथ बढ़ाए गए:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि इस बार 16 फीसद पोलिंग बूथ बढ़ाए गए हैं। 2.15 लाख से ज्यादा पोलिंग स्टेशन बने हैं। चुनाव कोविड प्रोटोकाल के साथ कराए जाएंगे। पोलिंग बूथ पर कोरोना से बचाव के लिए मास्क, सेनिटाइजर आदि उपलब्ध कराए जाएंगे। थर्मल स्कैनिंग की भी व्यवस्था की गई है।

18.34 करोड़ मतदाता इस चुनाव में हिस्सा लेंगे:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि सर्विस मतदाता को  मिलाकर 18.34 करोड़ मतदाता इस चुनाव में हिस्सा लेंगे जिनमें से 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। 24.9 लाख वोटर पहली बार वोट डालेंगे। हर विधानसभा क्षेत्र में कम से कम एक पोलिंग स्टेशन ऐसा होगा जिसका संचालन पूरी तरह से महिलाओं के हाथ में होगा। यहां तक की इस पोलिंग स्‍टेशन पर सुरक्षाकर्मी भी महिलाएं ही होंगी।

पारदर्शी चुनाव के लिए डिजिटल तकनीक की मदद:

मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त ने कहा कि वोटरों को एक छोटी सी मतदाताओं को गाइड मुहैया कराई जाएगी। स्वतंत्र, निष्‍पक्ष और पारदर्शी चुनाव के लिए डिजिटल तकनीक अपनाई गई है। इस बार सी-विजिल एप पर किसी भी तरह के चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी दी जा सकेगी। यही नहीं दिव्‍यांगों के लिए हर बूथ पर व्हील चेयर की भी व्‍यवस्‍था की जाएगी।

अधिकतम मतदाताओं की संख्या 1500 से 1250 निर्धारित:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि इस बार आयोग पर्याप्त संख्या में वीवीपैट की व्यवस्था करेगा। उम्मीदवारों को आनलाइन नामांकन का भी विकल्प मिलेगा। पोलिंग स्टेशन पर अधिकतम मतदाताओं की संख्या 1500 से 1250 निर्धारित की गई है। दिव्यांगों और 80 साल से ज्‍यादा उम्र वाले वरिष्ठ नागरिकों के साथ कोविड संक्रमितों को घर से मतदात करने की सुविधा मिलेगी।

900 पर्यवेक्षक रखेंगे नजर, संवेदनशील बूथों की वीडि‍योग्राफी:

CEC सुशील चंद्र ने कहा कि धन बल और सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग को लेकर हर बार की तरह इस बार भी जीरो टालरेंस की नीति रहेगी। इस बार कुल 900 पर्यवेक्षक चुनाव प्रक्रिया पर नजर रखेंगे। यदि जरूरी हुआ तो स्पेशल आब्जर्वर भी तैनात होंगे। संवेदनशील बूथों पर पूरे दिन वीडि‍योग्राफी कराई जाएगी। पांचों राज्यों में एक लाख से ज्यादा पोलिंग स्‍टेशनों का लाइव वेबकास्ट किया जाएगा।

चुनाव अधिकारियों को लगेगी प्रीकोशनरी डोज:

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि सभी चुनाव अधिकारियों और कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर माना। उन्‍होंने कहा कि सभी पात्र अधिकारियों को प्रीकोशनरी डोज लगाई जाएगी। कम वोटिंग प्रतिशत वाले पोलिंग बूथ पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा संख्या में वोटर अपने मताधिकार का इस्तेमाल करें।

सतर्क रहें आचार संहिता के अन्तर्गत रहें किसी भी प्रकार के सोशल मीडिया पर चुनावी रैली व पार्टी संबंधित किसी भी तरह के भाषण व भड़काऊ पोस्ट शेयर करने से बचें क्योंकि इस बार सोशल मीडिया से संबंधित सभी तरह के पोस्ट पर पैनी नज़र रखा जाएगा, जिसका बचाव हम सभी को करना है! जिससे हम सभी को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो!

जिस प्रकार कोविड काल में दवाई भी कड़ाई भी उसी तरह इस चुनावी आचार संहिता के माहौल में सावधानी भी  समझदारी भी, चुनावी पोस्ट साझा करने से बचें!

एक बार फिर से विनम्र निवेदन है सतर्क रहे और घर पर रहें तथा दो गज दूरी मास्क है जरूरी नियम का पालन करते रहें!

ब्रेकिंग न्यूज़:- UPElection2022 चुनाव आयोग ने यूपी विधानसभा 2022 की तारीखों का किया ऐलान। उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में 10 फरवरी से 7 मार्च तक होंगे चुनाव। 10 मार्च को होगी परिणामों की घोषणा। 14 जनवरी से 10 फ़रवरी तक चरणों के अनुसार जारी किए जाऐंगे नोटिफिकेशन।

   ◾️उत्तर प्रदेश चुनाव 2022◾️

      सात चरणों में होंगे मतदान

पहला चरण – 10 फरवरी

दूसरा चरण –  14 फरवरी

तीसरा चरण – 20 फरवरी

चौथा चरण –  23 फरवरी

पांचवाँ चरण- 27 फरवरी

छठा चरण –   03 मार्च

सातवाँ चरण – 07 मार्च

मतगणना 10 मार्च को होगी!

कौन-से चरण में कब और कहाँ-कहाँ अथवा किस किस शहर व कस्बे में चुनाव होंगे उन सबके बारे में विस्तृत जानकारी नीचे बताया गया है! 

लोकतंत्र, प्रजातंत्र….. अब जनता की बारी है I… 

पहले चरण का मतदान:-  शामली, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ हापुड़, गाजियाबाद, बुलंदशहर, मथुरा आगरा और अलीगढ़  I

दूसरे चरण का मतदान:- सहारनपुर, बिजनौर, अमरोहा, संभल, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर I

तीसरे चरण का मतदान:-  कासगंज, हाथरस, फिरोजाबाद, एटा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, औरैया, कानपुर देहात, कानपुर नगर, जालौन, हमीरपुर, महोबा, झाँसी, ललितपुर I

चौथे चरण का मतदान:- पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, लखनऊ, उन्नाव, रायबरेली, फतेहपुर, बांदा I

पांचवें  चरण का मतदान:- श्रावस्ती, बहराइच, बाराबंकी, गोंडा, अयोध्या, अमेठी, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, कौशांबी, चित्रकूट, प्रयागराज I

छठे चरण का मतदान:- बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, महाराजगंज, कुशीनगर, बस्ती, संत कबीर नगर, आंबेडकर नगर, गोरखपुर, देवरिया, बलिया I

सातवें चरण का मतदान:- आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर, जौनपुर, संत रविदास नगर, वाराणसी, मिर्जापुर, गाजीपुर, चंदौली, सोनभद्र I

यूपी में विधानसभा की कुल 403 सीटें हैं! जिसमें से 202 सीट जीतने वाली पार्टी का बहुमत से सरकार बनेगी! वर्तमान में यूपी के मुख्यमंत्री माननीय योगी आदित्यनाथ (भाजपा) जी हैं!

पोस्ट अच्छा लगे तो शेयर जरूर करें!

Leave a Comment

Your email address will not be published.