National Girl Child Day : जानिए 24 जनवरी, बालिका दिवस का क्या है महत्व ?

❇️ 24 जनवरी , राष्ट्रीय बालिका दिवस या बालिका दिवस 


राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत कब हुई और यह क्यों मनाया जाता है ? 
       
संक्षिप्त विवरण: इस दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी I
🔸इस दिन का उद्देश्य हमारे समाज में लड़कियों के लिंग आधारित भेदभाव के बारे में जागरूकता फैलाना और लड़कियों के प्रति दृष्टिकोण में बदलाव लाना है।
🔹तसनीम मीर बैडमिंटन अंडर -19 गर्ल्स सिंगल्स में वर्ल्ड नंबर 1 बनीं
🔸अनाहत सिंह अमेरिका में जूनियर स्क्वैश ओपन जीतने वाली पहली भारतीय लड़की बनीं
🔹‘गर्ल गैंग’ ने ICC महिला विश्व कप 2022 के आधिकारिक गीत की घोषणा की
🔸आईबीएम ने लड़कियों के लिए एसटीईएम शुरू करने के लिए उत्तराखंड सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए
🔹हरियाणा सरकार ने राज्य की लड़कियों और महिलाओं के लिए महिला एवं किशोरी सम्मान योजना और मुख्यमंत्री दूध उपहार योजना शुरू की
🔸गोवा सरकार ने बच्चियों के लिए ममता योजना की शुरुआत कीI
🔹काम्या कार्तिकेयन, मुंबई दुनिया की सबसे कम उम्र की लड़की दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी पर चढ़ने के लिए एकॉनकागुआ
🔸व्हाली डिक्री योजना (गुजरात): बालिकाओं के लिए I
 
विस्तृत जानकारी: भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। यह दिन 2008 में महिला और बाल विकास मंत्रालय की एक पहल थी। इस दिन का उद्देश्य हमारे समाज में लड़कियों द्वारा सामना किए जाने वाले लिंग आधारित भेदभाव के बारे में जागरूकता फैलाना और लड़कियों के प्रति दृष्टिकोण में बदलाव लाना है।
 
 इस दिन को ‘सेव द गर्ल चाइल्ड’, बाल लिंग अनुपात, और प्रत्येक बालिका के लिए एक स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण बनाने पर विभिन्न कार्यक्रमों और अभियानों द्वारा चिह्नित किया जाता है।
भारत में लैंगिक असमानता
 
 हमारे समाज और संस्कृति में सदियों से लैंगिक असमानता एक समस्या रही है। लिंग आधारित भेदभाव हमारी संस्कृति, धर्म और यहां तक ​​कि हमारे कानूनों के माध्यम से भारतीय समाजों में गहराई से अंतर्निहित है। बालिका के जन्म से पहले ही भेदभाव शुरू हो जाता है। कभी-कभी लड़की को भ्रूण के रूप में मार दिया जाता है और अगर वह अपनी मां के गर्भ से बाहर निकलने के लिए पर्याप्त भाग्यशाली होती है, तो उसे एक शिशु के रूप में मार दिया जाता है। यही कारण है कि भारत में बाल लिंग अनुपात विषम है, जहां 2011 की जनगणना के अनुसार, प्रति 1,000 लड़कों पर केवल 927 लड़कियां हैं।
 
 भारत एक पितृसत्तात्मक, पुरुष प्रधान समाज है। यही कारण है कि शिक्षा, आर्थिक प्रगति, वैश्वीकरण के वर्षों के बाद भी लड़कियों को शिक्षा, नौकरी जैसे विभिन्न क्षेत्रों में भेदभाव का सामना करना पड़ता है। कई मामलों में, शिक्षा के मामले में लड़कियों को अभी भी अनदेखा कर दिया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि समाज में एक महिला की भूमिका केवल मां या पत्नी की होती है, जिसकी प्राथमिक भूमिका अपने परिवार और बच्चों की देखभाल करना होती है।
 
 भारत सरकार ने इसे बदलने और लड़कियों की स्थिति में सुधार के लिए वर्षों से कई कदम उठाए हैं। इस भेदभाव को कम करने के लिए कई अभियान और कार्यक्रम जैसे सेव द गर्ल चाइल्ड, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, लड़कियों के लिए मुफ्त या रियायती शिक्षा, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में महिलाओं के लिए आरक्षण शुरू किए गए हैं।
यह भी पढें:- NETA JI SUBHASH CHANDRA BOSE JAYANTI

Leave a Comment

Your email address will not be published.