breakingnews

swamk vivekanand jyanti : जानिए युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानन्द के बारे में

Rate this post
स्वामी विवेकानन्द (जन्म: 12 जनवरी 1863 – मृत्यु :  4 जुलाई 1902)
उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था। उन्होंने अमेरिका स्थित शिकागो में सन् १८९३ में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का वेदान्त अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द की वक्तृता के कारण ही पहुँचा। 
स्वामी विवेकानंद जी के   अनमोल विचार  :
✨जब तक तुम खुद पर भरोसा नहीं कर सकते, तब तक खुदा या भगवान पर भी
 भरोसा नहीं कर सकते |
✨दुनिया एक बहुत बड़ी व्यायामशाला है, जहां हम खुद को मजबूत बनाने के लिए आते हैं |
✨एक अच्छे चरित्र का निर्माण हजारो
बार ठोकर खाने के बाद ही होता है।
✨उठो जागो और तब तक नहीं रुको
जब तक लक्ष्य प्राप्त ना हो जाये।
विवेकानंद जी का भाषण:
मेरे अमेरिकी भाइयो एवं बहनों
मैं आप सभी को दुनिया की सबसे पुरानी संत परंपरा की ओर से शुक्रिया करता हूं। मैं आपको सभी धर्मों की जननी की तरफ से धन्यवाद देता हूं। … ‘ स्वामी विवेकानंद ने आगे बताया था कि उन्हें गर्व है कि वे एक ऐसे धर्म से हैं, जिसने दुनियाभर के लोगों को सहनशीलता और स्वीकृति का पाठ पढ़ाया है।
हम सभी को उनके जीवन मूल्यो, आदर्शो व उनके विचारों को अपने जीवन मे अनुसरण एवं पालन करना चाहिए | 
स्वामी विवेकानंद के ये 10 अनमोल विचार आपको जीवन में हौसला देंगे
National Youth Day: राष्ट्रीय युवा दिवस क्या है? क्यों मनाते हैं इसे? विस्तृत जानकारी के लिए पूरा पढ़ें…. 
राष्ट्रीय युवा दिवस की विशेषता क्या है तथा यह इतना महत्वपूर्ण क्यों है? 
आइये जानते हैं इसकी विशेषता और महत्व के बारे में, जिसको हमने नीचे बताया हुआ है! 
राष्ट्रीय युवा दिवस: इस दिवस को स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है, जो हमेशा से युवाओं के प्रेरणा स्रोत रहे हैं! स्वामी विवेकानंद जी के विचारों में से सबसे सुंदर कथनों में से एक कथन यह है कि-   उठो जागो और तब तक नहीं रुको, जब तक लक्ष्य प्राप्त ना हो जाये।
  यह एक सर्वविदित तथ्य है कि किसी भी देश का युवा एक महान संपत्ति है।  वे वास्तव में देश का भविष्य हैं और हर स्तर पर इसका प्रतिनिधित्व करते हैं।  राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका आपके विचार से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।  दूसरे शब्दों में कहें तो युवाओं की सूझबूझ और मेहनत ही देश को सफलता के पथ पर ले जाएगी।  जैसे हर नागरिक समान रूप से जिम्मेदार है, युवा भी उतना ही जिम्मेदार है।  वे देश के निर्माण खंड हैं।
 युवाओं की भूमिका:
 युवा महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे हमारा भविष्य होंगे।  आज वे हमारे साथी हो सकते हैं, कल वे नेता बन जाएंगे।  युवा बहुत ऊर्जावान और उत्साही हैं।  उनमें सीखने और पर्यावरण के अनुकूल होने की क्षमता होती है।  इसी तरह, वे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सीखने और उस पर कार्य करने के लिए तैयार हैं।
 हमारे युवा समाज में सामाजिक सुधार और सुधार ला सकते हैं।  हम देश के युवाओं के बिना कुछ नहीं कर सकते।  इसके अलावा, राष्ट्र को लक्ष्यों को प्राप्त करने और देश को प्रगति की ओर ले जाने में मदद करने के लिए उनकी भागीदारी की आवश्यकता होती है।
 प्रश्न 1: राष्ट्र निर्माण में युवाओं की क्या भूमिका है?
 उत्तर 1: राष्ट्र निर्माण में युवाओं की बड़ी भूमिका होती है।  इसमें किसी देश को विकसित होने और प्रगति की ओर बढ़ने में मदद करने की शक्ति है।  यह एक देश के भीतर सामाजिक सुधार लाने के लिए भी जिम्मेदार है।  देश के युवा ही देश का भविष्य तय करते हैं।
 प्रश्न .2: हम युवाओं की मदद कैसे कर सकते हैं?
 उत्तर 2: जैसा कि सभी जानते हैं कि आजकल युवा बहुत अधिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं।  हमें उन्हें हर क्षेत्र में समान अवसर देने की जरूरत है ताकि वे अच्छी तरह सफल हो सकें।  उन्हें सभी सुविधाएं दी जानी चाहिए और सफलता प्राप्त करने के लिए चुनौती लेने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
️12 जनवरी, 2022
 💪25वां राष्ट्रीय युवा दिवस
       नेशनल यूथ डे
आइये जानते हैं इस वर्ष इसकी थीम क्या है? इस पर भी चर्चा करते हैं, जिसे आप पूरा पढ़ और समझ सकते हैं! 
 थीम 2022: “इट्स ऑल इन द माइंड”
 ‍⚫यह दिवस हर साल 12 जनवरी को मनाया जाता है – 1985 से यह भारत की परंपरा का एक अमिट हिस्सा रहा है।  संयोग से, यह वह दिन भी था जब भारत के महान समाज सुधारकों, विचारकों और दार्शनिकों में से एक स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ था।
 📓भारत सरकार ने 1984 में वापस घोषणा की थी कि स्वामीजी के जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाएगा।
 🔹2022 – स्वामी विवेकानंद की 158वीं जयंती I
 🔸 प्रधानमंत्री ने पुडुचेरी को राष्ट्रीय युवा महोत्सव के मेजबान के रूप में चुना I
 🔹ऑल इंडिया रेडियो ने युवा कार्यक्रम एआईआरएनएक्सटी का शुभारंभ किया I
🔸 बेरोजगार युवाओं की मदद के लिए पंजाब ने शुरू की ‘मेरा काम मेरा मान’ योजना I
🔹 मोहम्मद आजम राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से सम्मानित I
🔸 IHRF ने डेनियल डेल वैले को युवाओं के लिए उच्च प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया I
 🔹 राष्ट्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय
 : श्री अनुराग सिंह ठाकुर (हमीरपुर)
कहते हैं युवा हैं तो कल है, और ये हैं तो भविष्य भी सुरक्षित है!

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *